Neha Health

6/recent/ticker-posts

Pimple removal home remedies

1.पिंपल हटाने के घरेलू नुस्खे(Pimple removal home remedies)

‌शरीर के स्वास्थ्य की ही नहीं बल्कि सौंदर्य की रक्षा करना  जरूरी भी होता है और कठिन भी। सुंदर दिखना कौन नहीं चाहता !विशेषकर  स्त्री-वर्ग में अपने आपको सुंदर और आकर्षक बनाए रखने की लालसा जन्मजात ही रहती है ‌।हम यहां कुछ परीक्षित और  असरकारक ऐसे नुस्खे प्रस्तुत कर रहे हैं जो शरीर और मुख को सुंदर तथा तेजस्वी रखने में सफल सिद्ध हुए हैं । बाजारूट  कृत्रिम सौंदर्य प्रसाधन महंगे भी होते हैं और हानिकारक भीे अत: उनकी अपेक्षा प्राकृतिक और सस्ते  इन घरेलू नुक्खों का ही प्रयोग करना उचित है क्योंकि ये सिर्फ सस्ते हीं नहीं होते बल्कि निरापद भी होते हैं, थोड़ी देर के टिप-टाप और चमक-दमक देने वाले नहीं होते बल्कि स्थायी और  स्वाभाविक सौंदर्य देने वाले होते हैं ।आधुनिक कृत्रिम सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग  करते हुए, श्रंगार (मेकअप) के नाम पर की गई लीपा पोती, चेहरे पर साफ दिखाई दे जाती है और थोड़ी देर बाद मलिन होकर करूप हो जाती है पर प्राकृतिक साधनों के प्रयोग से जो चमक दमक और कांति चेहरे पर आती है वह स्वाभाविक होने से ज्यादा लंबे समय तक टिकी रहती है और सहज तथा आकर्षक दिखाई देती है। तात्पर्य है कि सौंदर्यवर्द्धक एवं आकर्षणरक्षक घरेलू नुस्खों  को प्रयोग में लेना ही हर दृष्टि से उत्तम होता है यह बात ठीक से समझ लेना चाहिए ।

Also Read This Artical-How to grow hair faster

 मुंहासे (Acne)

युवाकाल के प्रारंभ में प्राय: कई युवक-युवतियों के मुंह पर मुंहासे हो जाया करते हैं। इनसे कई का चेहरा ही कुरूप हो जाता है ।ऊपर से मुंहासे नाशक दवाइयां लगाने से प्रायः आराम नहीं होता क्योंकि मुंहासे होने के जो कारण शरीर के अंदर मौजूद होते हैं उन कारणों को दूर किये बिना ऊपर- ऊपर से उपाय करना हितकारी नहीं हो सकता ।सिर्फ जवानी आना ही मुंहासे होने में कारण नहीं माना जा सकता ,क्योंकि जवानी से तो सभी को आती है पर सब को मुंहासे नहीं होते। जिनको होते हैं उन्हीं को होते हैं प्रायः चिकनी और  तैलीय त्वचा वालों के चेहरे पर मुंहासे हुआ करते हैं तले पदार्थ,खट्टे और तेज मिर्च मसाले वाले उष्ण पदार्थ ,मांस ,अंडा ,चाय ,कॉफी आदि का सेवन करने से मुंहासे होने और बने  रहने की संभावना बढ़ती है पेट साफ न होना ,अपच और कब्ज बना रहना भी इसकी मुख्य कारण है। शरीर की तासीर गर्म होना ,उष्णता  बढ़ना और शरीर की उष्णता बढ़ाने वाले पदार्थ खाना भी इसके कारणों में शामिल है इन कारणों को तुरंत दूर करना चाहिए। कुछ हितकारी उपाय यहां प्रस्तुत है -

(1).चेहरे को ठंडे पानी से धोकर, गर्म पानी में तौलिया गीला करके चेहरे पर रखकर भाप सेक करें ।इसके के तुरंत बाद ठंडे पानी का तौलिया मुंह पर रखें या बर्फ घिसें। चेहरे को रुखा व सुखा रखें। मुहांसों को दबाना खींचना नहीं चाहिए ।आहार में हल्का व सुपाच्य भोजन लें और आधा पेट कच्ची हरी सब्जी ,सलाद व फलों सें भरें।

(2).हरी ककड़ी के रस में नींबू या संतरे का रस मिलाकर चेहरे पर लगाएं और आधा घंटे बाद दो डाले ।

(3).सुबह उठकर हलक में अंगुली डालकर उल्टी करके पेट में पड़ा अम्ली अंश रोजाना निकाल दिया करें, इससे मुहांसों में जल्दी लाभ होता है 

(4).सुबह-शाम दोनों वक्त अनिवार्य रूप से शौच के लिए जाया करें। स्नान करते समय युवक -युवतियों को  नियमित रूप से अपने गुप्तांगों को जल से धो कर साफ करना चाहिए यह बहुत जरूरी है। 

(5).यह उपाय बहुत लाभकारी सिद्ध हुआ है इसका उपयोग अवश्य करना चाहिए -धनिया वच, लोध और कूट- पीसकर सम मात्रा में लेकर मिला लें व शीशी में भरकर रख लें । इसको 10 ग्राम मात्रा में लेकर एक कप पानी में गाढा़ घोल लें। पत्थर पर जायफल पानी के साथ इतना घिसें कि  छोटा चम्मच आधा भर जाए । इसे भी इस घोल में मिला लें और शाम को चेहरे पर और मुंहासों पर जरा ज्यादा लगाइए एक घंटा लगा रहने दें फिर हल्के से रगड़ कर छुड़ा ले सुबह उठकर चेहरा धो ।  कुछ दिन तक प्रतिदिन यह लेप लगातार लwगाते रहने से मुंहासे  निकलना बंद हो जाते हैं यह प्रयोग करते हुए सुपाच्य तथा हलका आहार लेना चाहिए भोजन के बाद एक कैप्सूल बीकोसूल रोज दोपहर को पानी के साथ लेना चाहिए। पचने में भारी , तेज मिर्च मसाले वाले और गर्म प्रकृति के पदार्थों का सेवन बंद रखना चाहिए।

(6).एक कप दूध को खूब देर तक औटाएं और खूब गाढ़ा हो जाए तब एक नींबू निचोड़ कर नीचे उतार कर हिलाते चलाते हुए ठंडा होने के लिए रख दें । रात सोते समय इसे चेहरे पर लगाकर मसलें। चाहे तो घंटे भर बाद भी धो डालें। या चाहें तो रात भर चेहरे पर लगा रहने दें और सुबह धोएं । इस प्रयोग से मुहांसे ठीक होते हैं और चेहरे की त्वचा उज्जवल तथा चमकदार होती है।

(7).नारियल का शुद्ध तेैल 250 मि.ली. लेकर इसमें दो -तीन नींबू का रस निचोड़ लें और आग पर खूब अच्छा पका कर उतार लें।ठंडा करके कपूर की एक छोटी डली पीसकर इसमें डाल दें।इस तेल को स्नान से पहले शरीर पर लगाएं और फिर स्नान करें ।जो लोग नियमित या  साप्ताहिक रूप से शरीर की तेल-मालिश करते हैं उन्हें इस तेल का प्रयोग करना चाहिए इस तेैल से त्वचा स्वस्थ, चमकीली और चिकनी रहती है तथा मौसम के प्रभाव से बची रहती है।

Also Read This Artical-Yoga to reduce weight in 10 days

2.मुहांसे के दाग हटाने के उपाय(Remedy for acne scars)
चेहरें के दाग(Facial scars)

(1).चेहरे पर कील मुहांसों या झाइयों के दाग पड़ जाएं तो आलू उबाल कर ठंडा करके छिलके सहित पीस लें । इसमें ककड़ी का रस मिलाकर थोड़ा नींबू निचोड़ लें ।सबका लेप बनाकर चेहरे पर लगाएं। घंटे भर बाद धो ड़ालें।लगतार कुछ दिन प्रयोग करें दाग मिट जाएंगे और चेहरा खिल उठेगा 

(2).दूसरा उपाय -पलाश (खांकरा)- जिसके पत्तों से पत्तल दोने बनाए जाते हैं)  के फूल लालचंदन,लाल,मजीठ, मुलहठी,कुसुम,पदमाख, बड़ की जटा ,कमलकेशर,मेहंदी,नील, कमल,खस,पाकड़की मूल ,हल्दी ,दारूहल्दी और अनंत मूल-ये16 द्रव्य40-40 ग्राम- मोटा -मोटा (जौ कुट)कुटकर ढाई लीटर पानी में डालकर उबालें ।जब जल चौथाई भाग यानी लगभग 700 मि.ली. शेष बचे तब से उतारकर छान लें ।अब तिल का तेल 160 मि.ली. बकरी का दूध 320 मि.ली. और मजीठ, मुलहठी, लाख  पतंग व केशर- 10-10ग्राम पीसकर लुगदी बनाकर -ये सब छने हुए पानी में मिलाकर मंदी आंच पर पकाएं।  जब सिर्फ तेल मात्र बजे तक उतार कर ठंडा करके शीशी में भर लें ।

इस तेल को प्रतिदिन सोते समय चेहरे पर लगाने से सब दाग धब्बे और झाइयां के निशान साफ हो जाते हैं ।यह नस्खा कई बार अजमा चुके हैं और यह लाभकारी ही सिद्ध हुआ है।

3. चेहरे का रंग उजाला(Face color bright)

त्वचा का रंग साफ और गोरा करने के लिए युवक युवतियां नाना प्रकार के क्रीम पाउडर चेहरे पर लगाया करते हैं जिससे थोड़ी देर के लिए बनावट की चमक-दमक चेहरे पर आ जा आ जाती है पर जो उपाय हम यहां प्रस्तुत कर रहे हैं उनका प्रयोग धैर्य पूर्वक निरंतर करते रहने से तक स्थाई रूप से साफ चिकने और चमकदार होती है 

बाहरी उपाय  है कि पेट साफ रखें और कब्ज न रहने दें इसके लिए शाम को सोने से पहले शौच जाने की आदत डालें ताकि पेट में पड़ा-पडा़  मल सड़ता न रहे।  कब्ज रहने से आंतों व मलाशय में रुके मल से विकार युक्त  गंदा पानी शोषित हो कर रक्त में दूषित प्रभाव  उत्पन्न करता है जो चेहरे पर जाकर प्रकट होता है और इसी कारण चेहरे की त्वचा में मलिन और तेजहीन होती है तथा कील मुंहासे, झाइयां उत्पन्न होकर चेहरे को कुरूप कर देती है। बाहरी उपचार के अंतर्गत निम्नलिखित को उबटन बना कर रखें ।

(1).लोध्र,मजीठ और जौ, पिसवाकर कर खूब महीन चूर्ण करके अलग-अलग शीशियों  से भरकर रख लें। 1 शीशी गुलाब जल की, 1 शीशी में शुद्ध शहद और एक बर्नी(jar)में  250 ग्राम चिरौंजी रख लें।

अब लोंध्र5 ग्राम और मजीठ 5 ग्राम एक कटोरी में डालें। आधा चम्मच हल्दी डाल दें। 20 ग्राम चिरौंजी खूब महीन पीसकर डाल दें। तीन चम्मच शहद डाल दें। जौ का आटा इतनी मात्रा में लें जितने में गाढ़ा लेप बन सके ।पतला करने के लिए गुलाब जल छिड़क कर पतला करें एक नींबू काटकर निचोड़ लें और अच्छी तरह मसलते हुए चेहरे पर लगाकर घंटे भर सूखने दें इसके बाद पानी से धो डालें इसी उबटन को स्रान से घंटे भर पहले पूरे शरीर पर लगाकर स्नान कर सकते हैं ।किसी भी

 प्रकार के साबुन का प्रयोग ना करें ।वैसे भी चेहरे पर और बालों में तो साबुन लगाना ही नहीं चाहिए।

Also Read This Artical-Try raw turmeric remedy to make skin glowing and beautiful

4.चेहरे की कांति(Facial radian)

 चेहरे की त्वचा को स्वच्छ, निरोग और कांति पूर्ण बनाए रखने वाले ऐसे गुणकारी  और अनुभूत घरेलू उपाय प्रस्तुत है जो आधुनिक नकली सौंदर्य प्रसाधनों की तरह न तो महंगे हैं और ना ही हानिकारक है, बल्कि बहुत ही सस्ते और अत्यंत गुणकारी हैं। आप स्वयं ही प्रयोग करके देख लें।

(1).चेहरे व गर्दन की त्वचा पर शुद्ध शहद का लेप कर ले और सूखने के बाद पानी से धो डालें ।थोड़ा जीरा पानी में डाल कर उबालें और छान कर ठंडा करके इस पानी से चेहरे को धोया करें ।यह दोनों प्रयोग चेहरे की त्वचा को चिकना मुलायम और चमकीला भी रखते हैं ।

(2).जब भी चेहरा धोएं तब हथेली पर जरा सा बेसन लें और थोड़ा सा दही मिलाकर चेहरे व गर्दन पर अच्छी तरह लेप कर रगड़ें फिर थोड़ी देर बाद पानी से धो डालें। दही के स्थान पर दूध या नींबू का रस भी प्रयोग किया जा सकता है ।साबुन का प्रयोग न करके, साबुन की जगह यही प्रयोग प्रतिदिन करने पर धीरे-धीरे चेहरा कांति पूर्ण हो जाता है।

(3).सर्दी के दिनों में ग्लिसरीन और गुलाबजल 25-25 मि.ली. लेकर मिला लें और इसमें एक नींबू का रस निचोड़ दें । इसे सोने से पहले चेहरे ,गर्दन व हाथ पैरों पर लगा कर मसल लें और सुबह उठकर धो डालें। उपयुक्त सभी उपाय चेहरे की त्वचा को उज्जवल और कांति पूर्ण बनाने में एक से बढ़कर एक सिद्ध हुए हैं आप स्वयं आजमा कर देख लें।

5.चेहरे से कील मुंहासे हटाने के घरेलू उपाय(Home remedies to remove acne from the face)

कृत्रिम सौंदर्य प्रसाधन महंगे तो होते  ही हैं, टिकाऊ भी नहीं होते ।इनके स्थान पर प्राकृतिक द्रव्यों का प्रयोग जहां सस्ता और निरापद सिद्ध होता है वहां दीर्घकालीन प्रभाव करने वाला भी होता है ।प्राकृतिक द्रव्यों  को प्रयोग करके ,प्राकृतिक ढंग से श्रांगारपूर्ण एवं स्वास्थ्य उपाय करने में उपयोगी सरल नुस्खे होते हैं

(1).नींबू एक बहुत गुणकारी फल है जो रसोई में प्रयोग किए जाने के अतिरिक्त त्वचा के रंग रूप और चमक को निखारने में भी बहुत गुणकारी सिद्ध होता है । यहां अनुभूत और प्रभावकारी प्रयोग प्रस्तुत हैं 

(2).नींबू का रस, बेसन, शहद और मैदा चारों एक-एक चम्मच लेकर थोड़े से पानी के साथ फेंट कर लेप बना लें और चेहरे पर खूब अच्छी तरह लगाकर कुछ देर तक मलें । निरंतर कुछ दिन प्रयोग करने से चेहरे के अनावश्यक बाल हट जाते हैं

(3).स्नान के पानी  में नींबू निचोड़ कर स्नान करने और स्नान से पहले नींबू के रस का शरीर पर लेप करने या नींबू काटकर शरीर पर मलने से त्वचा का रंग साफ होता है चेहरे पर लगाने से मुहांसों के दाग साफ होते हैं

(4).नींबू और संतरे के छिलके सुखाकर महीन पीस लें ।इस पाउडर में दूध डालकर गाढ़ा लेप बना कर चेहरे या पूरे शरीर पर लगा कर स्नान करें ।इस चूर्ण में दूध की जगह दही ,बेसन मिला कर थोड़ा गुलाब जल डाल लें। इसे चेहरे पर मलें तो मुहांसों व झाइयों के दाग मिटते हैं पूरे शरीर पर उबटन करें तो त्वचा का रंग साफ और चमकदार होता है और त्वचा रेशम सी चिकनी होती है।

(5).ककड़ी को प्रतिदिन सलाद में भोजन के साथ खाएं। इसका रस आधा या चौथाई कप मात्रा में पिएं और इसके रस को चेहरे पर लगाकर मसलें तथा सूखा कर पानी से धो डालें। लगातार कुछ समय तक यह प्रयोग करने से कील मुहांसों के दाग, झाइयों के  निशान और फुंसियों के दाग मिट जाते हैं ।चेचक के दाग नहीं मिटते । इस प्रयोग से चेहरे का रंग भी  निखरता है

(6).तुलसी के पत्ते पीसकर लगाने से मुहांसों के दाग धीरे-धीरे मिट जाते हैं सोने से पहले दूध में जायफल घिसकर मुंहासों पर लगाने से कुछ दिन में मुहांसों के दाग दूर हो जाते हैं।

(7). 1बड़े चम्मच भर ककड़ी के रस में, नींबू का रस 4-5 बूंद टपका लें  और चुटकी भर पिसी हल्दी डालकर लेप बना लें ।इस लेप को चेहरे व गर्दन पर अच्छी तरह लगाकर मसलें और सूखने दें। आधा घंटे बाद पानी से चेहरा  व गर्दन धोकर मोटे तौलिये से रगड़ कर पोंछ डालें। चेहरे खिले गुलाब की तरह सुंदर दिखाई देगा

6.चेहरे पर  निखार लाएं(Improve face)

(1).थोड़ी सी चिरौंजी कच्चे दूध में भिगोकर महींन पीस लें।इसे शाम को चेहरे पर लेप करें ।जब सूख जाए तब मसल कर छुड़ा लें और चेहरा धो डालें। 

(2).खीरा ककड़ी और नींबू का रस समान भाग  मिलाकर स्नान से पहले चेहरे पर लगा लें और मिले इसके बाद स्नान करें।

(3).पिसी हुई मसूर की दाल में जरा सी हल्दी और जैतून का तेल (ओलिव ऑयल) मिला लें। इस मिश्रण को उबटन चेहरे और शरीर पर लगाकर मलें और स्नान करें ।

(4).चार चम्मच कच्चे दूध में एक चम्मच पिसा नमक मिलाकर सोने से पहले चेहरे पर मलें। सुबह उठकर चेहरा पानी से धो डालें।

(5).चूने का पानी तथा शुद्ध शहद मिलाकर चेहरे पर लेपकर मिलें और कुछ देर बाद धो डालें।

(6). एक पके टमाटर के रस में आधे नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लेप करें और 1 घंटे बाद ठंडे पानी से धो डालें।

(7).संतरे के सूखे छिलकों के साथ दो-तीन बादाम गिरी दूध की मलाई के साथ घोट पीस लें और चेहरे पर लेप कर मलें। सूखने पर मसल कर धों डालें।

(8).जैतून के तेल में नींबू का रस मिलाकर पूरे शरीर पर मालिश करें और चेहरे पर लगाकर मिले या प्रयोग होते समय करे तो विशेष लाभकारी होगा  या स्नान के पहले करें ।

(9).आंखों के नीचे कालापन दूर करने के लिए वहां खीरा ककड़ी का रस लगा कर हल्के- हल्के मलें । 20-25 मिनट बाद पानी से धो डालें 

(10).शहद में नींबू निचोड़ कर चेहरे पर लगाकर मिले और थोड़ी देर बाद धों डाले।

(11).नींबू के रस में तुलसी के पत्ते पीस लें और चेहरे पर लेप कर मलें। सूख जाने पर धों डालें‌।इससे चेहरे की त्वचा के सब दाग,धब्बे झाइयों के निशान मिट जाते हैं।

(12).नींबू का रस,जौ बाजारी और चावल का आटा तथा हल्दी-पांचो 1-1  चम्मच लेकर मिला लें। जरा सा जैतून का तेल मिलाकर गाढा़ उबटन बना कर चेहरे और पूरे शरीर पर लगाकर मसलें। थोड़ी देर बाद धो  डालें या स्नान करते समय धो लें। यह बहुत ही रंग साफ करने वाला श्रेष्ठ उबटन है।

यह सभी उपाय एक समान गुणकारी हैं और चेहरे व शरीर की त्वचा को कांतिपूर्ण बनाकर रंग को निखारते हैं ।अपनी सुविधा के अनुसार कोई भी उपाय 4-5 सप्ताह तक नियमित रूप से करें और प्रभाव स्वयं देख लें।

Also Read This Artical-How to lose belly fat in 7 days 

7.सोन्दर्यवर्द्धक लेप और उबटन(Beauty-enhancing coating and scrubbing)

 चेहरे को सजाने संवारने के लिए महंगे और कृत्रिम पदार्थों से बने पाउडर क्रीम आदि का प्रयोग न करके आयुर्वेदिक को उबटन और लेप का प्रयोग करना चाहिए जो कि  बहुत सस्ते तो होते ही हैं साथ ही निरापद भी होते हैं यानि त्वचा को किसी भी प्रकार की हानि नहीं पहुंचाते  जबकि आधुनिक कृत्रिम  सौंदर्य प्रसाधन कालांतर में त्वचा पर बुरा असर डालने वाले होते हैं। यहां हम कुछ चुने हुए अत्यंत गुणकारी ऐसे प्रयोग प्रस्तुत कर रहे हैं ।

(1).कांतिवर्द्धक लेप(Radiant coating)

 टमाटर का रस, मूली का रस, ककड़ी का रस और गुलाब जल- सब आधा- आधा चम्मच लेकर मिला लें और नींबू का रस 5-6 बूंद टपका लें एक चम्मच(छोटा) मक्खन और एक चुटकी पिसी हल्दी मिलाकर लेप बना लें ।इस लेप को चेहरे पर लगाकर मसलें और सूखने दें। आधे घंटे बाद शीतकाल हो तो गुनगुने  गर्म पानी से अन्यथा ठंडे पानी से चेहरा धो डालें हथेली पर थोड़ा सा ग्लिसरीन और गुलाब जल लेकर चेहरे पर हलका -हलका लगाएं और मसल कर जज्ब कर दें। चेहरे की त्वचा साफ कोमल चिकनी और चमकीली हो रहेगी। 

(2).चंद्रमुखी लेप(Chandramukhi coating)

 लालचंदन (रक्तचंदन), अगर ,लोध, मंजीठ कूट, खस और सुगंधवाला -सब सौ -सौ ग्राम अलग-अलग कूट पीसकर बारीक चूर्ण कर लें और मैदा छानने की छलनी से छान कर सबको अलग-अलग शीशियों में भरकर रखें।  जब लेप बनाना हो तब प्रत्येक चूर्ण आधा-आधा चम्मच( तीन- तीन ग्राम लगभग )लेकर  सिल पर डालकर, पानी के छींटे देते हुए पीसें और लुग्दी बना लें। इसे एक कटोरी में रख लें। एक चम्मच दूध में केसर की 1-2 पंखुड़ी डालकर इस तरह से खरल में घोंटें की केसर दूध में घूल जाए। यह दूध लुगदी पर डाल दे ऊपर से5-6बूंद गुलाब जल और 3-4 बूंद नींबू का रस टपका कर फेंट लें। बस चंद्रमुखी लेप तैयार है। चेहरे के रंग को निकालकर उज्जवल करने के लिए यह लेप बेजोड़ है । इस लेप को चेहरे व गर्दन पर लगा कर मसलें और सूखने दें। 2 घंटे बाद सूखा हुआ लेप  छुड़ा कर पानी से धो डालें और मोटे तौलिये सें पोंछ डाले 1 सप्ताह तक प्रतिदिन इसके बाद 1 सप्ताह तक एक दिन छोड़कर और फिर सप्ताह में दो बार इस लेप का प्रयोग करें ।एक माह में चेहरा खिल उठेगा।

(3).प्रियदर्शन उबटन(Priyadarshan Ubutan)

पूरे शरीर की त्वचा को स्वस्थ, चिकनी और मुलायम रखने के लिए एक अत्यंत गुणकारी और उत्तम उबटन का नुस्खा प्रस्तुत कर रहे हैं ‌।आधी कटोरी बेसन ,दो चम्मच ग्लिसरीन, एक चम्मच चंदन का महीन पिसा छना बुरादा,1 चम्मच पिसी हल्दी ,एक चम्मच गुलाबजल, आधा चम्मच दूध और नींबू के रस की 5-6 बूंद ,सबको मिलाकर लेप बना लें। यदि लेप को गाढा़ करना  हो तो थोड़ा बेसन डालकर गाढ़ा कर लें और पतला करना हो तो ग्लिसरिन डाल कर पतला कर लें।शीतकाल में ग्लिसरिन की जगह सरसों का तेैल प्रयोग कर सकते हैं ।सुगंध के लिए केवड़ा या हिना इत्र की दो बूंद टपका लें। ग्रीष्म काल में खस तथा वर्षा काल में गुलाब के इत्र की दो बूंद टपका लें। इस उबटन को, स्नान करने से आधे घंटे पहले,लगा कर सुखा सके तो क्या कहनेे वरना स्नान करते समय समय ही पूरे शरीर पर यह उबटन लगा कर, थोड़ा सुखते ही, मसल कर छुड़ा दें। उबटन मैल सहित बत्ती बनकर छूटता जाएगा ।इसके बाद स्नान कर लें। इस उबटन से त्वचा के छिद्रों में फंसा मैल भी निकल जाता हैं। साबुन का प्रयोग न करके इस उबटन का लेप करके स्नान करें ।दिन-रात शरीर सुगंध से महकता रहेगा और  पूरे शरीर की त्वचा रेशम सी चिकनी, मखमल से मुलायम और मक्खन से उज्जवल बनी रहेगी।

8.कुछ सरल उबटन(Some simple trick)

उबटन कई प्रकार के होते हैं। कुछ सरल एवं सादे उबटनों के विषय में विवरण प्रस्तुत कर रहे हैं ताकि किसी भी कारण से उपयुक्त लेप और उबटन तैयार न किये जा सकें तो निम्नलिखित किसी भी उबटन का उपयोग करके लाभ उठाया जा सके। 

(1).बेसन उबटन(Gram flour)

यह सर्वाधिक मात्रा में प्रचलित और सरलता से तैयार किया जा सकने वाला उबटन है ।2 बड़े चम्मच भर बेसन में एक चम्मच मीठा या सरसों का तेल और थोड़ा सा दूध । बेसन में दूध डालकर घोलें और तेल मिलाकर गाढ़ा गाढ़ा शरीर पर लेप करें और जैसे-जैसे सूखता जाएगा वैसै वैसे हाथों से मसलकर छुड़ाने लगे उबटन मेल सहित बत्तियों के रूप में छूट जाएगा और शरीर की त्वचा निखर उठेगी।

(2).जौ उबटन(Barley boil)

2 बड़े चम्मच भर जौं का आटा, एक चम्मच ग्लिसरीन, आधा चम्मच तेल और थोड़ा गुलाब जल सबको मिलाकर लेप करें।

(3).मैदा उबटन(Refined flour)

2 बड़े चम्मच भर मैदा,आधा चम्मच तेैल और थोड़ी थोड़ी सी मलाई मिलाकर लेप करें।

(4).चन्दन उबटन(Sandalwood)

दो बड़े चम्मच भर चंदन का बुरा खूब बारीक पिसा छना हुआ, एक चम्मच चंदन का असली तेल, एक चम्मच ग्लिसरीन, कुछ बूंद नींबू का रस और आधा चम्मच बेसन। सबको मिलाकर लेप करें यह उबटन ग्रीष्म काल में प्रयोग करना चाहिए‌।

(5).उड़द उबटन(Urd Ubutton)

2 बड़े चम्मच भर उड़द की दाल पिसी हुई, एक चम्मच कच्चा दूध, एक चम्मच तेल और कुछ बूंद गुलाब जल सबको मिलाकर लेप करें।

(6).सौंफ उबटन(Fennel boiled)

2 बड़े चम्मच भर बारीक सौंफ पिसी हुई, आधा चम्मच चावल का आटा ,आधा चम्मच तेल और जरा कच्चा दूध। सबको मिलाकर लेप करें।


Post a Comment

0 Comments