Neha Health

6/recent/ticker-posts

Corona's health services to Bapti, some good initiatives have also started

 Corona's health services to Bapti, some good initiatives have also started



कोरोना ने बेपटरी की स्वास्थ्य सेवाएं, कुछ अच्छी पहल भी हुई शुरू
Corona's health services to Bapti, some good initiatives have also started


चंडीगढ़। कोरोना के चलते शहर के अस्पतालों की व्यवस्था चरमरा गई है। लॉकडाउन के दौरान बंद ओपीडी खुलने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। इससे मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में महिलाओं और बच्चों की सेहत को ध्यान में रखते हुए गाइनी और पीडियाट्रिक की ओपीडी का संचालन किया जा रहा है। जीएमएसएच-16 में कई व्यवस्था प्रभावित हुई है, लेकिन मरीजों की सहायता के लिए कई सराहनीय कदम भी उठाए गए हैं। हर जगह सैनिटाइजेशन, थर्मल स्क्रीनिंग और मास्क की जांच की जा रही है। अस्पताल के सुरक्षा गार्ड अपनी ड्यूटी करने के साथ आने-जाने वाले लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग के फायदे बता रहे हैं।

विज्ञापन


ट्रेंड स्टाफ लोगों को जागरूक करने में जुटा(Trend staff engaged in making people aware

ऐसी स्थिति में अस्पताल प्रशासन ने लोगों को जागरूक करने की अच्छी व्यवस्था की है। कोरोना के संदिग्ध मरीजों को अस्पताल के सैंपल कलेक्शन सेंटर पर ट्रेनिंग दी जा रही है। ट्रेंड स्टाफ संदिग्ध मरीजों को पॉजिटिव और निगेटिव दोनों स्थिति के बारे में बता रहे हैं। इसका मुख्य उद्देश्य अस्पताल आने वाले लोगों को कोरोना से जुड़ी जानकारी उपलब्ध कराना है।



टेली कंसल्टेशन ने संभाली व्यवस्था(Tele consultancy took over the system

अस्पताल की ओपीडी बंद होने के बाद पीजीआई की तर्ज पर जीएमएसएच 16 ने भी महत्वपूर्ण विभागों में टेली कंसल्टेशन सर्विस शुरू की है। इसमें आई, ईएनटी, मेडिसिन, सर्जरी, डेंटल, साइकेट्रिक और स्किन के विशेषज्ञ मरीजों को फोन पर परामर्श दे रहे हैं। इस सुविधा के अंतर्गत प्रतिदिन तीन से चार सौ मरीजों को इलाज उपलब्ध हो रहा है।


इमरजेंसी की स्थिति ज्यादा खराब(Emergency situation worse

इमरजेंसी पर मरीजों का दबाव बढ़ने से व्यवस्था बिगड़ती जा रही है। इमरजेंसी में गंभीर मरीजों के साथ कोरोना के संदिग्ध मरीजों के आने से वहां अतिरिक्त दबाव है। कर्मचारियों और डॉक्टरों को संक्रमण के खतरे के बीच ड्यूटी करनी पड़ रही है। ऐसी स्थिति से बचाव के लिए अस्पताल प्रशासन ने 6 मंजिल के इनडोर में 2 फ्लोर खाली कराकर वहां अन्य डिपार्टमेंट के मरीजों के लिए रिजर्व कर दिया है।


Corona's health services to Bapti, some good initiatives have also started
Corona's health services to Bapti, some good initiatives have also started


महिलाओं और बच्चों की सेहत का खास ख्याल(Special care for the health of women and children) 

कोविड के दौरान अस्पताल की गाइनी और पीडियाट्रिक ओपीडी सेवा लगातार बहाल रखी गई है। शुरुआती दौर में संक्रमण के कारण इस सेवा में कई तरह की बाधाएं आईं, लेकिन व्यवस्था को संभालते हुए गर्भवती महिलाओं और बच्चों को इलाज देने का क्रम जारी रखा गया। अस्पताल के गाइनी डिपार्टमेंट के डॉक्टरों व स्टाफ की मेहनत और सूझबूझ के बल पर अब तक वहां डेढ़ दर्जन कोरोना पॉजिटिव गर्भवतियों की सफल डिलीवरी कराई जा चुकी है।


जनता ने कहा...(The public said) 

कोरोना के चलते मरीजों को न तो समय पर इलाज मिल पा रहा है और न ही दवाइयां। ऐसी स्थिति में प्रशासन को मरीजों की बेहतरी के लिए उचित उपाय करने की जरूरत है ताकि कोरोना के साथ अन्य बीमारियों पर काबू पाया जा सके।

-किरण देवी, रामदरबार

कोरोना के साथ अन्य गंभीर बीमारियों के इलाज पर फोकस करने की जरूरत है, ताकि मरीजों को समय पर इलाज मिल सके। जीएमएसएच 16 और पीजीआई की टेली कंसल्टेशन में इसे लेकर बेहतर प्रयास किए जा रहे हैं।

-कप्तान सिंह, हल्लोमाजरा

कोरोना के दौरान अस्पतालों में सोशल डिस्टेंसिंग, स्क्रीनिंग और से सैनिटाइजेशन की व्यवस्था संतोषजन कम नहीं है। अभी भी वहां सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों की अनदेखी की जा रही है, जिस कारण कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे हैं।

-दलबीर सिंह, हल्लोमाजरा

अस्पतालों की टेलीकंसल्टेशन सर्विस में जारी नंबर लगते ही नहीं। इससे मरीज परेशानी हो रहे हैं। जीएमएसएच 16 के अस्पताल प्रशासन को इसमें सुधार करने की जरूरत है। क्योंकि इस समय टेली कंसल्टेशन ही अन्य मरीजों के लिए राहत का माध्यम बना हुआ है।

-तारा शंकर तिवारी, कॉलोनी नंबर 4

कोरोना से बचाव के नियमों का पालन करते हुए अन्य मरीजों के इलाज की व्यवस्था पर भी पूरा ध्यान दिया जा रहा है। टेलीकंसल्टेशन के जरिये फोन पर परामर्श देने के साथ पीडियाट्रिक और गाइनी डिपार्टमेंट में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन क मरीज देखे जा रहे हैं।

Post a Comment

0 Comments