Neha Health

6/recent/ticker-posts

Corona made old eating and drinking habits fashion trend of today's youth

Corona made old eating and drinking habits fashion trend of today's youth


(1).कोरोना ने खाने-पीने की पुरानी आदतों को बना दिया आज के युवाओं का फैशन ट्रेंड(Corona made old eating and drinking habits fashion trend of today's youth)


कोरोना काल में नई पीढ़ी के लिए ‘इम्यूनिटी’ सबसे ट्रेंडिंग वर्ड बन गया है जिसपर देश  दुनियां में सबसे ज्यादा काम हो रहा है। ...


नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। कोरोनावायरस के इस दौर ने खाने-पीने की पुरानी आदतों को भी फैशनबल बना दिया है। जिस जेनरेशन ने फ्रूट बियर और वोदका का सेवन फैशन के तौर पर किया था, उसी जेनरेशन ने अब हल्दी का दूध, दादी का काढ़ा और आंवले का सेवन भी फैशन बना लिया है। नई पीढ़ी के लिए ‘इम्यूनिटी’ सबसे ट्रेंडिंग वर्ड बन गया है, जिसपर देश और दुनिया में सबसे ज्यादा काम हो रहा है। नई पीढ़ी इम्यूनिटी बूस्टर्स यानि दादी के काढ़े और हल्दी के दूध का जिक्र सबसे ज्यादा इस्तेमाल कर रही है।

आज के युवाओं के लिए इम्यूनिटी बढ़ाना एक जुनून बन गया है। ये वही युवा हैं, जो सॉफ्टड्रिंक्स और जंक फूड को अहमियत देते हैं, आज वो दादी के काढ़े और आयुर्वेदिक चीजों की अहमियत समझ रहे हैं।

कोरोना के इस दौर में ‘इम्यूनिटी’ सबसे लोकप्रिय मुद्दा बन गया है। ‘इम्यूनिटी’ जिसपर हर कोई अपनी राय और सलाह देना और लेना चाहता है। कोरोना काल में अगर बचना है तो इम्यूनिटी तो मजबूत करना ही होगी, ये बात आज सबको समझ में आ गई है। तभी तो हल्दी का दूध, तुलसी, आंवला और अश्वगंधा जिन्हें लोग सालों पहले ही भूल चुके थे, आज वो सबसे ज्यादा फैशन में हैं। बड़ी-बड़ी कंपनियां आयुर्वेदिक चीजों से इम्यून बढ़ाने वाले प्रोडक्ट को लॉन्च कर रही हैं। हाल ही में अमूल ने तुलसी, हल्दी और अदरक का दूध लॉच किया है, जो लोगों की पसंद और डिमांड को ध्यान में रखकर बनाया गया है। अमूल कंपनी का कहना है कि कुछ दिनों में उनकी कंपनि अश्वगंधा और शहद का दूध भी लॉच करने वाली है।

Corona made old eating and drinking habits fashion trend of today's youth
Corona made old eating and drinking habits fashion trend of today's youth

मार्केट में इम्यूनिटी बूस्टर ड्रिंक्स की भरमार है। इम्यूनिटी का खुमार लोगों पर इस कदर छाया है कि वो नाश्ता भी ऐसा करना चाहते हैं, जिससे उनका पेट भरने के साथ ही उनकी इम्यून पावर भी बढ़े। लोगों की पसंद को ध्यान में रखते हुए बॉन ने हल्दी, काली मिर्च और विभिन्न बीजों के साथ एक नई इम्यूनिटी-बूस्टिंग ब्रेड बनाई है, जिसे लोग शौक़ से पसंद कर रहे हैं। डाबर ने अपने च्यवनप्राश के उत्पादन में वृद्धि करते हुए कई नए उत्पादों की पेशकश की है, जिसमें तुलसी, हल्दी, आंवला रस, अश्वगंधा शामिल है।

मिठाई की दुकान पर भी इम्यूनिटी का खास ध्यान रखा जा रहा है। तुलसी और कई आयुर्वेदिक ज़ड़ी-बूटियों का इस्तेमाल करके सैंडेश बनाया जा रहा है जिसे लोग खाना पसंद कर रहे हैं।         

(2).कोरोना महामारी के बीच स्वास्थ्य मंत्री हुए गिरफ्तार, किया था ये बड़ा घपला!(Health minister arrested during Corona epidemic, had done this big scam)!

चीन के वुहान शहर से फैला कोरोना वायरस आज लगभग पूरी दुनिया में अपने पैर पसार चुका है. इस वायरस से अब तक 80 लाख से अधिक लोग ग्रसित हो चुके हैं. जबकि बड़े पैमाने पर मौत का ग्राफ बढ़ा है. वहीं अगर इन आंकड़ों को संख्या में तब्दील करें तो इनकी संख्या लगभग 4,67,000 के करीब दर्ज की गई है. जो अपने आप में ही किसी बड़े खतरे की घंटी से कम नहीं है. हालांकि वैज्ञानिकों की लगातार रिसर्च जारी है लेकिन अभी तक कोरोना वैक्सीन बनने की संभावना कहीं से नजर नहीं आ रही है. बता दें कि फिलहाल कुछ देशों में क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरी दे दी गई है, जिनका इस्तेमाल कोरोना के मरीजों पर किया जाना है, बताया जा रहा है कि क्लीनिकल ट्रायल से थोड़ी राहत जरूर मिली है. जिसका प्रयाेग अमेरिका, ब्रिटेन, रूस जैसे देशों में किया जा रहा है. वहीं कोरोना वायरस के मद्देनजर अधिकांश देशों में लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है. हालांकि कोरोना से सबसे पहले मुक्त न्यूजीलैंड हो गया है. जिसकी जानकारी खुद प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न ने दी थी. लेकिन इन सबके बीच एक ऐसी खबर सामने आई है जो काफी अमानवीय है. दरअसल जिम्बाब्वे में कोरोना वायरस टेस्ट किट की खरीदारी को लेकर स्वास्थ्य मंत्री को गिरफ्तार कर लिया गया.





स्वास्थ्य मंत्री ओबादिआह मोयो पर आरोप है कि उन्होंने कोरोना वायरस टेस्ट किट और अन्य उपकरणों के लिए 456 करोड़ रुपये की डील में घोटाला किया. हालांकि, शुक्रवार को गिरफ्तार किए जाने के बाद शनिवार को एक अदालत ने स्वास्थ्य मंत्री ओबादिआह को जमानत दे दी.

XDF

दरअसल जिम्बाब्वे के स्वास्थ मंत्री ओबादिआह के बारे में कहा जा रहा है कि इन्होंने अपने पद का दुरुपयोग किया है. ऐसी महामारी के दौर में भी इस तरह की घटना को अंजाम देना अपने आप में ही शर्म की बात है. चूंकि पूरी दुनिया इस कोरोना वायरस से जूझ रही है लेकिन कुछ लोग अपने राजनीतिक फायदे के लिए लोगों की जानों को दाव पर लगा रहे हैं. जिम्बाब्वे के लोगों ने इसकी कड़े शब्दों में निंदा की है.

XDF

जांचकर्ताओं ने स्वास्थ्य मंत्री को जमानत दिए जाने का विरोध नहीं किया. हालांकि, दोषी साबित होने पर उन्हें 15 साल की जेल की सजा हो सकती है. बहरहाल जिम्बाब्वे में अब तक कोरोना के 480 से अधिक मामले सामने आए हैं. वहीं, पड़ोसी देश साउथ अफ्रीका में कोरोना के 97 हजार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं.

XDF

रॉयटर्स के मुताबिक, ओबादिआह पर Drax International LLC और Drax Consult SAGL कंपनियों के साथ की गई डील में भ्रष्टाचार का आरोप है. प्रॉसिक्यूटर्स का कहना है कि अवैध रूप से इन कंपनियों के साथ सौदा किया गया. जांच में पता चला कि स्वास्थ्य मंत्री ही इस घोटाले में लिप्त है. तो बाद में जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति ने संबंधित कंपनियों के साथ करार रद्द कर दिया.
      

Post a Comment

0 Comments